संतुलित जीवन क्या है ? (What is a balanced life)

हमने ऋतुराज बसंत संतुलित और मनमोहक क्यों है ? इसके बारे में पिछले पोस्ट में संक्षिप्त में जाना I अब बात करते हैं, संतुलित जीवन के बारे में - व्यक्तिगत तौर पर मेरा मानना है, कि संतुलित जीवन या सफलतापूर्ण (Successfully) जीवन पृथ्वी पर किसी भी इंसान के जीवन का वह भाग है I जहाँ पर वह जीवन के सभी भागों- शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, आर्थिक और अध्यात्मिक, इन पांचों भागों में संतुलित जीवन (Balanced Life) जी पाता हैI संतुलित जीवन जीना किसी भी स्वस्थ इंसान के बस में है I इसीलिए कहा भी गया है कि "मनुष्य स्वयं अपने भाग्य का निर्माता है (Human is the only creator of his destiny) I पृथ्वी पर इंसान जैसा जीवन जीना चाहे वैसा जीवन जी सकता है I जो प्राप्त करना चाहे वह प्राप्त कर सकता है I जो बनना चाहे वह बन सकता है। जो करना चाहे वह कर सकता है। बशर्ते इस पृथ्वी पर किसी एक इंसान ने जैसा जीवन जीना चाहा वैसा जीवन जीया हो। जो प्राप्त करना चाहा, वह प्राप्त किया हो। जो बनना चाहा हो, वह बना हो। जो बनाना चाहा हो, वह बनाया हो। जो करना चाहा हो, वह किया हो। अर्थात इस पृथ्वी पर किसी भी काम को पहले कभी एक इंसान ने पूर्ण या प्राप्त किया है, तो वह काम कोई दूसरा इंसान भी कर या पा सकता है। लेकिन ऐसा करने के लिए खुद पर विश्वास (Faith) होना बहुत जरुरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *