HappyChases

Balance For A Happy Life

Sixty seconds complete one minute. Twenty four hour complete one day. 365 day make a year. Due to the co-ordination between a wheel and a rail a train runs. Balance between air and span of the airplane make it able to fly high. A good wheel and road enable a motorcycle to turn. A balanced combination of threads make a cloth. A good balance between human and human in a family forms a good family. A healthy combination of family forms a society. A balanced combination between brick and cement forms a stable structure. A balanced combination of tomes create an awesome music. Five basic elements forms a human body. Humans leave by taking wind, water and food. An animal too eats food, drinks water, inhales air. But the only difference between an animal and a human is that human can leave his life as he want to, and that's why humans are known as the best creatures in the world. But it is true that humans are the only creature who becomes sad. I think, since whatever human is doing is to get happiness only and may be for the centuries it has to be.

Happy Chases

Happy chases 🙂 chase it happily. We created this blog in order to help you to chase your dream happily either it is spiritual aspect of life or economical aspect of life. We will suggest you how to be happy in life. And we will share some tips and tricks on life hacks. 🙂

खुशी जीवन के लिए सन्तुलन

साठ  सेकंड के संतुलन से एक मिनट का समय पूर्ण होता है। चौबीस घंटे के संतुलन से दिन रात पूर्ण होता है। 365 दिन के संतुलन से एक साल पूर्ण होता है। पटरी और  पहिये के संतुलन से रेलगाड़ी दौड़ती है। हवा और पंख के संतुलन से हवाई जहाज उड़ती है।  चक्के और पक्के रोड के संतुलन से गाड़ियां मुड़ती है। धागे और धागे के संतुलन से कपड़ा बनती है। इंसान और इंसान के संतुलन से परिवार बनता है। परिवार और परिवार के संतुलन से समाज बनता है। ईंटें और सीमेंट के संतुलन से इमारतें बनती हैं। सुर और ताल के संतुलन से संगीत बनता है। पंच तत्वों के संतुलन से इंसान बनता है।  हवा, पानी और भोजन  के संतुलन से इंसान जीवित रहता है। हम हवा, पानीऔर भोजन से जीवित तो रह सकते हैं, जैसे अन्य जीवधारी जीते हैं, ऐसे में अन्य जीवों और इंसान में क्या फर्क होगा ? पृथ्वी पर इंसान ही एकमात्र प्राणी है जो जैसा जीवन जीना चाहे वैसा जी सकता है, इसीलिए मानव जीवन को श्रेष्ठ जीवन कहा गया है। लेकिन अफसोस की बात यह  है, कि  इंसान ही सबसे ज्यादा दुखी रहता है,  मेरा मानना है- चूँकि आज प्रत्येक इंसान जो भी कर रहा है, दौड़ भाग रहा है, उसका एकमात्र उद्देश्य  खुशी  प्राप्त करना  (HAPPINESS) है और शायद युगों युगों तक यही उद्देश्य रहने वाला है।